Tuesday, April 26, 2011

जब प्रकृति अपने चमत्कारों से रूबरू हमें कराती है

 पत्ते पर  परे ओस की बूंदे
मोती नहीं होती 
पर किसी पपीहे ,किसी भौरें 
की प्यास बुझा सकती है 

किसी राहगीर को जीवन दान 
और स्फूर्ति  दे सकती है 

मोतियों के  माला की 
कीमत नगण्य हो जाती हैं 

जब प्रकृति अपने चमत्कारों से 
रूबरू हमें कराती है 

जौहरी मोती की  पहचान कर सकता है 
सुख सुविधा से संपन्न वो 
उसकी  कीमत का अनुमान कर सकता है 

पर प्रकृति सर्वथा अनमोल है 
उसकी शक्ति निरंतर एवं अविरल है 
उस की महिमा का  वो थका हारा पथिक ही 
बखान कर सकता है 




4 comments:

  1. Nishant ji bahut sateek bat kahi hai aapne .badhai .

    ReplyDelete
  2. प्रकृति की तुलना भौतिक संसाधनों से की ही नहीं जा सकती,,,प्रकृति की महिमा अपरम्पार..
    आभार ..आप इतनी जल्दी जल्दी पोस्ट लागतें है की मौका नहीं मिलता सारी कृतियाँ पढने का..मगर इच्छा जरुर रहती है..


    आशुतोष की कलम से....: मैकाले की प्रासंगिकता और भारत की वर्तमान शिक्षा एवं समाज व्यवस्था में मैकाले प्रभाव :

    ReplyDelete
  3. कोई बात नहीं ...आपने सराहना की अच्छा लगता है..
    हाँ थोडा अंतराल रखूँगा....आगे से इसका ध्यान रखूँगा..
    आपका आभार ...
    प्रकृति की महिमा अव्यक्त है ..

    ReplyDelete
  4. यदि आप हिन्दू है तो हिन्दू कहलाने में संकोच कैसा. अपने ही देश में कब तक अन्याय सहेंगे. क्या आपको नहीं लगता की हमारी चुप्पी को लोग हमारी कायरता मानते हैं. एक भी मुसलमान बताईये जो खुद को धर्मनिरपेक्ष कहता हो. फिर हम ही क्यों..? सच लिखने और बोलने में संकोच कैसा. ?
    यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
    आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये... ध्यान रखें धर्मनिरपेक्षता के नाम पर कायरता दिखाने वाले दूर ही रहे,
    अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
    इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
    हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
    समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे

    देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच - हल्ला बोल

    ReplyDelete