Saturday, April 30, 2011

समर्पित कर दे ..



समर्पित कर दे अब  वर्त्तमान को 
तू भटक न जाना संसार में 

अर्पित कर दे  सब  कर्म को 
तू ठिठक न जाना तिरस्कार से 

द्रवित कर ले ह्रदय  पाषाण को 
तू दहक न जाना अहंकार में 

संचित कर ले सत्य धर्म को 
तू बहक न जाना प्रचार में 

कम्पित कर दे  व्यर्थ  अज्ञान को 
तू छिटक न जाना   मझधार में 

खंडित कर दे अर्थ भ्रम को 
तू खनक न जाना व्यापार से 






2 comments:

  1. शानदार रचना। बधाई स्वीकार करें। मैं भी बिहार के बिहार शरीफ से ताल्लुक रखता हुॅ।
    वक्त मिले तो हमारे ब्लाग पर भी पधारें।

    my contact no. 9835434312.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर ...हरेक पंक्ति प्रेरक सूत्र वाक्य...

    ReplyDelete