Tuesday, May 17, 2011

बस ये ही मेरी आरज़ू है...



तपते हैं ग्रीष्म में शब्द मेरे 
दृढ- प्रतिज्ञ शीत में ये बनते हैं 

एहसासों के सावन के लिए 
ये मयूर सा हरदम तड़पते हैं 
..........................................


अहंकार अगर मेरे शब्दों के 
राहों से मुझको भटकाती है 

तू हल बनकर दर्दों को मेरे 
रौंद चले तब जाती है 
.......................................


मन के बंजर धरती पर
तू प्रेम-बीज बो जाती है 

बीजों के पौधे बनने तक 
खुशियों के बादल लाती है 
.......................................


फिर सुने धरती पर मेरे
हरे घास हरियाली लाते हैं 

तूफ़ान क्रोध का सहते हैं 
पथिकों के मन को भाते हैं 
.......................................


मन-आँगन में नित-दिन 
तू ओस की मरहम लगाती है 

न मुरझाये मेरी हरियाली 
तू शीतलता दे जाती है 
.........................................


ऐसा है बस रिश्ता तुझसे 
तू मन- उपवन की खुशबू है 

तू हरदम रहे युहीं खिलते 
बस ये ही मेरी आरज़ू है ...


बस ये ही मेरी आरज़ू है...


4 comments:

  1. आपको बुद्ध पूर्णिमा की ढेर सारी शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. aapka bahut aabhaar
    sushma ji
    sawai ji

    ReplyDelete

Kshitiz

Wo kshitiz hai paas nahi aata, Jaise sach ho ,jo raas nahi aata Tum aaye the lekar Josh -o -junoon, Ab kya hua,kahte ho kaash nahi aata !...