Saturday, May 28, 2011

ख्वाब बांटता है कोई!



साये के परदे हैं बस अब दामन में  
क्या नूर को भी  नकारता है कोई

जब से आया है वो  शहर में यारों 
लगता है ख्वाब बांटता है कोई 

न जाने क्या  है उसका  मोल साहब 
दीवानागी   क्यूँ  आंकता है कोई 

हसरते मिलने की महफ़िल से 
लम्हा लम्हा  हि  जागता है कोई 

हो न  हों पूरी ख्वाईशें दिल की 
खुद में खुद को ढालता है कोई 

हवाएं  शाख से खेलती रहती है 
कहता है दिल में झांकता है कोई

बेपरवाह है ज़माना उससे पर 

गुनाहगार खुद को मानता है कोई

मुफलिसी कब से दोस्त बन बैठी
उम्मीद फिर भी पालता है कोई

दिया जलाएगा वीराने में आकर
आज दिल से पुकारता है कोई 

13 comments:

  1. शेर सभी तो बढ़िया हैं
    मगर बिना मतले के ग़ज़ल नहीं कहा जा सकता इसको!

    ReplyDelete
  2. दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
    जैसे एहसान उतारता है कोई

    आईना देख के तसल्ली हुई
    हम को इस घर में जानता है कोई

    पक गया है शज़र पे फल शायद
    फिर से पत्थर उछालता है कोई

    फिर नज़र में लहू के छींटे हैं
    तुम को शायद मुगालता है कोई

    देर से गूँजते हैं सन्नाटे
    जैसे हम को पुकारता है कोई
    ..........................
    upar ke sher hain sanjay bhashkar ji ke mitra anand ji ke
    maine kuch joda hai ...

    puri rachna ko ek saath padhne par aisa hoga


    दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
    जैसे एहसान उतारता है कोई

    आईना देख के तसल्ली हुई
    हम को इस घर में जानता है कोई

    पक गया है शज़र पे फल शायद
    फिर से पत्थर उछालता है कोई

    फिर नज़र में लहू के छींटे हैं
    तुम को शायद मुगालता है कोई

    देर से गूँजते हैं सन्नाटे
    जैसे हम को पुकारता है कोई

    साये के परदे हैं बस दामन में
    क्या रौशनी भी नकारता है कोई

    जब से आया है वो इस शहर में
    लगता है ख्वाब बांटता है कोई

    न जाने क्या मोल है उसका
    गोया दीवानगी को भी आंकता है कोई

    हसरते मिलने की महफ़िल से
    जैसे हर लम्हा जागता है कोई

    तमन्ना पूरी हो या नहीं शायर
    बेशक खुद को खुद में ढालता है कोई


    ....mayank daa aapka bahut aabhar truti batane ke liye ...
    aur sheron ko sarahane ke liye...
    bahut aabhaar..
    koshish karunga..

    ReplyDelete
  3. खुबसुरत रचना। आभार।

    ReplyDelete
  4. खुबसुरत रचना। आभार।

    ReplyDelete
  5. कोशिशें नहीं थमनी चाहिए
    दिए को जलाने की
    तूफ़ान भी आया तो क्या
    दिल का घरौंदा
    ही तेरा कायनात है
    http://shayaridays.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. Ye ghazal mitron gulzaar ji ki rachna hai...


    दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
    - गुलजार

    दिन कुछ ऐसे गुजारता है कोई
    जैसे एहसान उतारता है कोई

    आईना देख के तसल्ली हुई
    हम को इस घर में जानता है कोई

    पक गया है शजर पे फल शायद
    फिर से पत्थर उछालता है कोई

    फिर नजर में लहू के छींटे हैं
    तुम को शायद मुघालता है कोई

    देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
    जैसे हम को पुकारता है कोई ।

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. हर वक़्त क्यूँ रिश्तों से भागता है कोई
    क्यूँ तश्वीर दीवारों पर टाँगता है कोई

    इस जहाँ में हरमोड़ पे होते हैं तजुर्बे
    कहीं मिले सबकुछ दाना फाँकता है कोई

    साये के परदे हैं हि रह गए दामन में
    क्या नूर को भी नकारता है कोई

    जब से आया है वो शहर में यारों
    लगता है कि ख्वाब अब बांटता है कोई

    न जाने क्या है उसका मोल ए साहब
    दीवानागी को क्यूँ आंकता है कोई

    हसरते मिलने की महफ़िल से रात भर
    लम्हा लम्हा हर घड़ी जागता है कोई

    हो न हों पूरी सुहानी ख्वाईशें दिल की
    बेशक खुद में खुद को ढालता है कोई

    हवाएं शाख को सहला कर चली गयीं
    कहता है हँस के दिल में झांकता है कोई

    ग़ाफिल है ज़माना इक अरसा गुज़र गया
    गुनाहगार खुद को अब भी मानता है कोई

    मुफलिसी न जाने कब से दोस्त बन बैठी
    उम्मीद आँखों में फिर भी पालता है कोई

    दिया जलाएगा नील आँखों के वीराने में
    आज जान-ओ-दिल से पुकारता है कोई

    ReplyDelete