Saturday, April 28, 2012

मन बांवरा है


तुझसे  गुफ्तगू  तेरे  चर्चे  हँसती  गाती  मेरी  पलकें
चाँदनी  बिखर  गयी   बस   युहीं   बर्फ   बह   रही   पिघल  के

एक  साज  था  अजनबी  सा  मगर  तेरी  दुआओं  से  बनी  धुन
आज  कर  रहा  है  गुंजन   राफ्ता  राफ्ता  हल्के  हल्के

..............................................................................................

तेरे  एहसान  बहुत  हैं  रब  ,कुछ  मांगने  की  गुजारिश  नहीं ....
मगर  कोई   गुजारिश  न  रहे  ,बस  ये  दुआ  कबूल कर ......

............................................................................................

इत्तेफाक़न  कुछ  भी  नहीं  होता   ज़माने  में   ,
कई  ख्वाब  टूटते  बिखरते  हैं  निभाने  में

न  तोड़िये  बेसाख्ता  इन  धडकनों  की  साज
कहीं  उम्र  न  गुज़र  जाए  उनको  मनाने  में

......................................................................................................

जब  भी  तेरे  ख्याल -ओ -ख्वाब  की  चाँदनी  आई
मैं  चाँद  से  और  भी  दूर  होता  गया ...
भीनी  भीनी   सी   वो   खुशबू  धरती   की  भूल  और
तेरी  शिरत  पे  आशना  मेरे  हुज़ूर  होता  गया ...

.......................................................................................................

हम  ग़मों   की  दहलीज़  से  गर   कतरा  के  निकल  जाते ,
तो  वो  रकीब  मेरा,  दायरा  बढ़ा  लेता ..
उसे  ज़ेहन  -ओ -दिल   में  कुछ  जगह  बक्श  दी
तो  रोज़   वो  बरस  रहा  है  ख़ुशी  बनकर ...

...........................................................................................

चलो  ख्वाब  में  मिलते  हैं ,ज़ीस्त  में  चैन   कहाँ ,,,,,,
धडकनों  के  मायने  समझते  नैन  कहाँ .......

............................................................................................

चरागों  सा  जलोगे  तो  राहत  होगी ,
खुलुश  रखने   से  तो  जल  जाओगे ,
ढला  करो  तो  सूरज  बनकर ,
नहीं   तो  बेवक्त  ढल  जाओगे

.....................................................................

मन  बांवरा  है  अपने  जूनून  में  है ,
तेरा  असर  मौला  जिस्म -ओ-खून  में  है

.....................................................................

आज  ख्वाब  रास्ता  भटक  गए  हैं  बावस्ता   हूँ  महफ़िल  से ,
शोर  करूँ  पैमाना  टूटने  का  या  याद  करूँ  तुझे   दिल  से ...

............................................................................................

बेसाख्ता  कुछ  तार  उलझ  गए  होंगे  मेरे   गली  में ,
वरना  वो  चेहरे  पुराने  थे  जो   नहीं  गुज़रे   कभी ...

एक  दिया  है  जो  जलता  रहा  उस  मंदिर  की  देहलीज़  पर
उनके  याद  के  पन्ने   भी  वहीँ   है  न  बिखरे   कभी ...

.................................................................................................

1 comment:

  1. इत्तेफाक़न कुछ भी नहीं होता ज़माने में ,
    कई ख्वाब टूटते बिखरते हैं निभाने में

    ....बहुत खूब !

    ReplyDelete