Tuesday, May 1, 2012

कोई आदतन ग़म के पैमाने नहीं भरता

इस   ज़िन्दगी   में  अब कोई  जुस्तजू  न  रही ,
मैं  ही   बदल   गया   या  तू  तू   न  रही ..

जिसने  की  थी  हिमायत  उसकी   सादगी  की
उस  इंसान  की  इस  शहर   में  आबरू   न  रही ...

रस्ते  सारे  वहीँ  रहे  मंजिलें  भी  वहीँ
सफ़र  करने   की  ही  कोई  अब  आरज़ू   न  रही ...

कोई  आदतन  ग़म  के  पैमाने  नहीं  भरता ..
मगर  क्या  करें   की  शराब   में  वो  खुशबू  न  रही

1 comment: