Sunday, May 6, 2012

तुझसे पहचान हो मेरी


जैसे एहसासों से बनी कोई तश्वीर हो
किसी दरवेश की बंदगी -ओ -ज़मीर हो

मेरे गुरबत्त में भी चिराग जलता रहे
"माँ " तुझसे पहचान हो मेरी , तेरी तौकीर हो

1 comment:

दोहे

पके   आम   के  संग -संग   रेशे  भी   होवत    आम   उतना  ही  रसपान  करें  जिससे   मिले   आराम   लीची   मीठी    होवत   है  पर बीज    कसैला  ...