Saturday, September 1, 2012

लगता है ,सपने नहीं देखता

चिड़ियों के पंखों  को समेटता रहता है वो नादाँ 
कहता है आसमान में उड़ना है 

लगता है ,सपने नहीं देखता !

3 comments:

Kshitiz

Wo kshitiz hai paas nahi aata, Jaise sach ho ,jo raas nahi aata Tum aaye the lekar Josh -o -junoon, Ab kya hua,kahte ho kaash nahi aata !...