Tuesday, January 1, 2013

साथ ही रहने दो

उसे उसके साथ ही रहने दो अलग न करो ..
थपेरों वो सह नहीं पायेंगे तूफ़ान के... 

शीशे को खश में संभाल कर ही रखा जाता है !

No comments:

Post a Comment

Kshitiz

Wo kshitiz hai paas nahi aata, Jaise sach ho ,jo raas nahi aata Tum aaye the lekar Josh -o -junoon, Ab kya hua,kahte ho kaash nahi aata !...