Friday, February 1, 2013

उमीदों का दामन क्यों हैं सब उतारे हुए



उमीदों का दामन क्यों हैं सब उतारे हुए
क्या हुआ जो शज़र के फल न तुम्हारे हुए !!

सारे मुश्किलात मिट गए पल भर में में
जब स्वयं कन्हैय्या , हमारे खेवनहारे हुए !!

मरुभूमि में भी हरियाली आ गयी
जब हम सब  दीनवत्सल  के, द्वारे हुए!!

हीरे - मोती का हम अब क्या करें
बस इक साथ प्रीतम का  , हमें सँवारे हुए !!

चिराग -ए -दिल जलती रहेगी बदस्तूर
क्या हुआ , जो बेदर्द चाँद -सितारे हुए

दिए बनाने वाले कुम्हार से पुछा करना
कितने घर -आँगन में , कल उजियारे हुए !!

ये रूप है तेरा तब तक ही  ओ "नील "
जब तक तेरे सारे आचरण,  प्यारे हुए !!


२८ जून २०११

3 comments:

  1. हीरे - मोती का हम अब क्या करें
    बस इक साथ प्रीतम का , हमें सँवारे हुए !!..

    प्रीतम के साथ के अलावा ओर कोई उम्मीद भी क्यों ... सब कुछ तो मिल ही गया ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया...
    दिए बनाने वाले कुम्हार से पुछा करना
    कितने घर -आँगन में , कल उजियारे हुए !!

    लाजवाब एहसास...
    अनु

    ReplyDelete
  3. बहुत धन्यवाद दिगंबर जी
    बहुत आभार अनु जी

    ReplyDelete