Sunday, December 1, 2013

अँधेरा बुझाने के लिए सिर्फ रौशनी चाहिए


मशालों  को  दिये -बाती  से  मत  तौलो 
चाँद  सितारों  की  चालों  के  कहे  पर  न  चलो 


देखो  अँधेरा   बुझाने  के  लिए  सिर्फ   रौशनी  चाहिए !!

2 comments:

दोहे

पके   आम   के  संग -संग   रेशे  भी   होवत    आम   उतना  ही  रसपान  करें  जिससे   मिले   आराम   लीची   मीठी    होवत   है  पर बीज    कसैला  ...