Saturday, January 3, 2015

खूबसूरत ख्वाब !

रात  बहुत खूबसूरत ख्वाब देखा था 
कुछ चमकते मोती दिखे थे एक खुले संदूक में 

हाय,नींद टूटी तो सामने एक पत्ते पर ओस की बूँदें थी !

No comments:

Post a Comment

किनारा

चलो  इक  और  किनारा  आ गया है मांझी , किश्ती  को  रोकना   मत ! समुंदर  में  तैरने  के  लिए  बहुत  से  तिनके  समेट  लिए  हैं  मैंने  सफ़र...