Friday, March 6, 2015

आलस !

लहरों  की आवाजाही हो रही है रेत पर 
ठंडक पहुँच रही है झुलसे हुए तलवों को 

काश! कुछ सीप भी ले आये ,कारोबार सुरू हो जाए !

No comments:

Post a Comment

दोहे

पके   आम   के  संग -संग   रेशे  भी   होवत    आम   उतना  ही  रसपान  करें  जिससे   मिले   आराम   लीची   मीठी    होवत   है  पर बीज    कसैला  ...