Monday, June 1, 2015

दर्द

कांटें  चुभ गए हैं तलवे में 
आज नहीं निकालना इन्हें  

दर्द जब दूर रहता है तो फ़रिश्ते नहीं आते मलहम लगाने .... 

2 comments:

है आरज़ू हमारी

ज़ेहन -ओ -दिल से आज हम दुआ करते हैं दोस्त होने का आज अहल -ऐ -वफ़ा करते हैं ... मुश्किलों में भी तुझको मुकम्मल जहाँ मिले तेरे लिए आज ग़ज़...