Saturday, August 1, 2015

भरोसा

प्याला खाली पड़ा है आँगन में 
साकी के इंतज़ार में शायर अन्दर है 


उसे अब भी बादल पर भरोसा है की वो भर देंगे उसे ..


No comments:

Post a Comment

किनारा

चलो  इक  और  किनारा  आ गया है मांझी , किश्ती  को  रोकना   मत ! समुंदर  में  तैरने  के  लिए  बहुत  से  तिनके  समेट  लिए  हैं  मैंने  सफ़र...