Tuesday, November 1, 2016

पहचान

कपास को बड़ी अदब से कात रहा है जुलाहा 
उड़  जाता वो  इधर - उधर   बिन पहचान के 

पर  आज उस  शामियाने की पहचान उससे है !!

No comments:

Post a Comment

है आरज़ू हमारी

ज़ेहन -ओ -दिल से आज हम दुआ करते हैं दोस्त होने का आज अहल -ऐ -वफ़ा करते हैं ... मुश्किलों में भी तुझको मुकम्मल जहाँ मिले तेरे लिए आज ग़ज़...