Tuesday, November 1, 2016

पहचान

कपास को बड़ी अदब से कात रहा है जुलाहा 
उड़  जाता वो  इधर - उधर   बिन पहचान के 

पर  आज उस  शामियाने की पहचान उससे है !!

No comments:

Post a Comment

दोहे

पके   आम   के  संग -संग   रेशे  भी   होवत    आम   उतना  ही  रसपान  करें  जिससे   मिले   आराम   लीची   मीठी    होवत   है  पर बीज    कसैला  ...