Thursday, December 1, 2016

अपना भी ज़माना होगा अब


है उम्मीदें दामन में ,दर्द का न अब कोई फ़साना होगा
न होगा इतेफाक ही कोई ,न अब कोई बहाना होगा 
इम्तेहान हो कोई भी , तयार हैं हम दिल -ओ -जान से 
मुद्दतों बाद अपना भी ,अब कोई ज़माना होगा !! 


है अजनबी शहर तो क्या ,हर दिल ही अपनी मंजिल है 
भीड़ में खोते नहीं , ऐसे दीवानों की ये महफ़िल है 
है सफ़र पे आज अपने साथ फिर से ख़ुशी 
गुलशन अपने यारों का ,न अब कभी वीराना होगा !!