Tuesday, September 1, 2020

निशा निमंत्रण

निशा  निमंत्रण  लेकर  चन्दा , छत पर  मेरे  आया  है

सपनो  में  था  खोया  मैं ,उसने  आकर मुझे  जगाया  है

ठंडी  ठंडी  हवा  चल  रही  ,रिमझिम  बूँदें  बरस  रही

बादल  का  घूंघट  ओढ़े  वो  ,चाँदनी को  संग  लाया  है !!


वो कहता  है  मुझसे  , सो  कर  खो  देगा  तू   अमृत  को

भर  ले  अपना  प्याला  जिसे ,   दुनिया  ने  ठुकराया  है

चखना  और  चखना सब को  , ये  प्याला  होगा  रौशनी  का

साकी  तेरा  जब  मैं  हूँ  हमदम ,तू  काहे को  घबराया  है !!

4 comments:

  1. नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 3 सितंबर 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर सृजन।

    ReplyDelete

दलील क्या है ?

दलील क्या है ?,थाह ले कर देख लो ! हक में कुछ गवाह ? ले कर देख लो ! हो गयी है राह पथरीली मगर .. राह की भी राह ,ले कर देख लो  है वही पेड़ था झ...