Friday, December 11, 2020

शायरी

बुलाया   उन्होंने , गए  हम  दिल  लेकर
और  गए  तो  वहाँ  मौसम   बदल  गया 

.............................................................

राहें  बोलती  हैं  तू  जाना  पहचाना  है  शायर
मगर मेरे   महबूब   ही हमें   भूल  गए  

..................................................................

कश्ती  को  किनारे  पर  नहीं  छोरना  मांझी
कि  शहर  में  अब  दंगो  का  शोर   है
तूफ़ान  की  शिरत  तो  सबको  मालूम  है 

................................................................

तेरे इश्क ने इतना मज़बूत कर दिया हमें सनम
कि गम अब दोस्त है अपनी
मौत भी आ जाए दुश्मनी को तो लड़ जायेंगे 

5 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (१२-१२-२०२०) को 'मौन के अँधेरे कोने' (चर्चा अंक- ३९१३) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  2. वाह !!!
    उम्दा शायरी...

    ReplyDelete

शायरी

बुलाया   उन्होंने , गए  हम  दिल  लेकर और  गए  तो  वहाँ  मौसम   बदल  गया  .................................... ......................... ...