Monday, October 1, 2012

तूफ़ान


तिनके  तिनके  बिखरे  गए  रात  तूफ़ान   में 
जो  उसने  बिने  थे  उस  आँगन  से ... 


सहमी  गौरैया  देख  रही  है  उन्हें  जलवान  बनते  ....

2 comments:

  1. समयक्रम का एक ठिठका लम्हा

    ReplyDelete