Saturday, November 2, 2019

झील


किसी  ने  झील  की  गहराई  मापी ,किसी  ने  झील में  पत्थर  मारा ,
कोई  तैराक  था  तो  दी  झपकी ,किसी  ने  खून  बहाकर  मारा

किसी  ने  धूल  की  तिलांजलि  दी  ,कर  दिया  सर  का  आग़ाज़ 
किसी  ने  जोड़  दिया नहरों  से ,उसे  दरिया  बनाकर  मारा

किसी  ने  भेजा  धूप  को  जो  ले  गया  बादल  के  तोहफे ,
किसी  ने  ज़मीं  और  बादल  के , बीच  में  आकर  मारा 

किसी  ने  खोल  दिया नौकाओं  का  एक  अनोखा  सा  शहर,
किसी  ने  सब  ख़त्म  करने  का , एक  आखिरी  मोहर  मारा

"नील " इस  झील के  उस  पार  ही  इसकी  मर्ज़ों  की  दवा  होगी ,
ऐसा  लगता  है   इस  पार तो , वक्त  ने   हर चारागर  मारा


2 comments:


  1. जय मां हाटेशवरी.......
    आप सभी को पावन दिवाली की शुभकामनाएं.....

    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    03/11/2019 रविवार को......
    पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में. .....
    सादर आमंत्रित है......

    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    http s://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस रचना को चुनने के लिए धन्यवाद कुलदीप जी

      Delete

दलील क्या है ?

दलील क्या है ?,थाह ले कर देख लो ! हक में कुछ गवाह ? ले कर देख लो ! हो गयी है राह पथरीली मगर .. राह की भी राह ,ले कर देख लो  है वही पेड़ था झ...