Wednesday, April 18, 2012

सफ़र

मेरे   ख्यालों   में   आ   जाओ   लब   की   मुस्कान  बन   जाओ
आकाश  के   सफ़र  पे  निकला  हूँ  मेरी   उड़ान  बन  जा ओ ...

अब  खामोशियों  से  भी  कोई  साज़   बने  वीराने  में
मेरे   तरन्नुम  में  बस  जाओ  मेरी  जुबान  बन  जाओ ...

साहिल   पे  लहरों  की  तरह  से   आओ  मेरे  जीवन  में
बस    मेरी  सादगी  बन  जाओ  मेरा  ईमान   बन   जाओ ..

मेरे  शब्दों  को  दिखा  दो  रौशनी  चरागों  की  तरह ..
मेरे   गीतों  से  छलक जाओ  सुरीली   तान  बन  जाओ .....

No comments:

Post a Comment