Saturday, June 25, 2011

इंतज़ार

लोग धुप में छाँव ढूँढा करते हैं 
शहर में गाँव ढूंढा करते हैं 

ये भूल जाते है कि किसी नज़र में इंतज़ार उनका भी  है !


5 comments:

Kshitiz

Wo kshitiz hai paas nahi aata, Jaise sach ho ,jo raas nahi aata Tum aaye the lekar Josh -o -junoon, Ab kya hua,kahte ho kaash nahi aata !...