Sunday, June 5, 2011

हर कवि है इश्वर इस मंदिर में


कागज़ है पूजा की थाली 
और 
तिलक स्याह से करते हैं ,
भोग भाव के बना बना 
हम 
मन के  मंदिर में 
अर्पण करते हैं ,
प्रसाद कविता की होगी 
हर कवि  है इश्वर  इस 
मंदिर में ,
कलम से शंख  ध्वनि कर
आह्वान उन्ही का 
करते हैं ,



6 comments:

  1. आपकी बात से सहमत है बहुत सुंदर प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. waah! bhut gahri baat itne saral aur khubsurat shabdo me kah di apne...

    ReplyDelete
  4. bahut khoob!! padhna behad achha laga.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete